अधिकांश राज्यों और क्षेत्रो मैं २० दिसम्बर ,२०२१ तक मैं ओमिक्रोन का पता चला है.ओमिक्रोन वैरिएंट, वैरिएंट बी.1.1.529, पहली बार 24 नवंबर 2021 को डब्ल्यूएचओ को सूचित किया गया था.

covid-19 के अनुपात मैं यह तेजी से वृद्धि कर रहा है. ओमिक्रोन के प्रसार की निगरानी के लिए cdc राज्य और स्थानीय सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ काम कर रहा है और वो who एवं उद्योग भागीदारो के साथ सहयोग कर रहा है. 

ओमिक्रोन : फेलाव, गंभीरता, टीका।

मूल SARS-CoV-2 वायरस की तुलना में ओमिक्रोन वैरिएंट (Omicron virus) अधिक आसानी से फेलता है और डेल्टा की तुलना मैं कितनी आसानी से फेलता है ये अज्ञात है. ओमिक्रोन से संक्रमित व्यक्ति ने भले ही टीका लगाया हो या उनमें लक्षण न हो फिर भी वो दुसरो में वायरस फैला सकता है. दक्षिण अफ्रीकी डीएसआई-एनएसएफ सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन एपिडेमियोलॉजिकल मॉडलिंग एंड एनालिसिस के निदेशक जूलियट पुलियम के पूर्वानुमान के अनुसार, कोविड -19 वायरस का ओमिक्रॉन संस्करण भारत में तेजी से फैलेगा.

यह वायरस उन लोगों को संक्रमित कर रहा है, जिन्हें हमारे द्वारा देखे गए पिछले रूपों की तुलना में बहुत अधिक दर से पहले संक्रमण हुआ था. प्रारंभिक रिपोर्टों से पता चलता है कि यह वैक्सीन सफलता संक्रमणों में भी वृद्धि कर रहा है. यह निर्धारित करने के लिए अध्ययन जारी हैं कि क्या वायरस कितनी आसानी से फैलता है या इसके कारण होने वाली बीमारी की गंभीरता में कोई परिवर्तन होता है, और यदि सुरक्षात्मक उपायों पर कोई प्रभाव पड़ता है.

भारत में अब तक 17 राज्यों में कुल 422 ओमाइक्रोन मामले सामने आए हैं उनमे से 115 केस ठीक हुए है महाराष्ट्र मैं इनके ज्यादा केस देखने मिले उसके बाद दिल्ही और गुजरात का स्थान है इसके सामान्य लक्षण में खासी, बुखार, जुकाम , स्वाद या गंध की कमी, थकान है. ओमिक्रोन से लड़ने के लिए दूसरी बार की वैक्सीन लेना ज़रूरी है. उम्मीद है की टीकों से गंभीर बीमारी, अस्पताल में भर्ती होने और ओमिक्रॉन संस्करण के संक्रमण के कारण होने वाली मौतों से बचाव हो. वर्तमान में, डेल्टा संस्करण दुनिया भर में प्रमुख है और COVID-19 टीके आपको गंभीर बीमारी और मृत्यु से बचाने में अत्यधिक प्रभावी हैं, जिसमें डेल्टा से संक्रमण भी शामिल है. शोधकर्ता ओमाइक्रोन के खिलाफ मौजूदा टीकों के प्रदर्शन का आकलन करेंगे और उपलब्ध होते ही इन निष्कर्षों को संप्रेषित करेंगे.

WHO SARS-CoV-2 के सभी प्रकारों के बारे में अधिक समझने के लिए दुनिया भर के शोधकर्ताओं के साथ समन्वय करना जारी रखता है, जो वायरस COVID-19 का कारण बनता है, जिसमें ओमिक्रोन भी शामिल है। कई अध्ययनों की आवश्यकता है, जिनमें निम्नलिखित का आकलन शामिल है:

  • अन्य प्रकारों की तुलना में ओमिक्रोन की संप्रेषणीयता, या एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने में आसानी
  • संक्रमण की गंभीरता और ओमिक्रोन के साथ पुन: संक्रमण
  • ओमिक्रोन के खिलाफ वर्तमान COVID-19 टीकों का प्रदर्शन
  • ओमिक्रोन के साथ संक्रमण का पता लगाने के लिए एंटीजन परीक्षणों सहित नैदानिक परीक्षणों का प्रदर्शन

डब्ल्यूएचओ का तकनीकी सलाहकार समूह डेटा की निगरानी और मूल्यांकन करना जारी रखेगा क्योंकि यह पता चल जाता है और यह आकलन करता है कि क्या ओमिक्रोन वैरिएंट में उत्परिवर्तन वायरस के व्यवहार को बदलते हैं.

COVID-19 वेरिएंट से खुद को और दूसरों को बचाने के लिए क्या क्या करे?:

  • अपने हाथों को बार-बार साफ करें
  •  टिश्यू में , मुड़ी हुई कोहनी में खांसना या छींकना
  • अपने मुंह और नाक पर अच्छी तरह से फिट किया हुआ मास्क पहनें
  •  खिड़कियाँ खुली रखे
  • एक-दुसरे से कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाकर रखें
  • टीका लगवाएं, जैसे ही आपकी बारी हो

COVID-19 के टीके कितने प्रभावी है?

गंभीर बीमारी को रोकने और चिंता के सभी मौजूदा रूपों के खिलाफ मृत्यु को रोकने में COVID-19 के टीके अभी भी बहुत प्रभावी हैं ऐसा वर्तमान में हमारे पास जो आंकड़े उपलब्ध हैं, वे हमें दिखाते है यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि टीके संक्रमण, हल्की बीमारी, गंभीर बीमारी, अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु से विभिन्न स्तरों की सुरक्षा प्रदान करते हैं.

लेकिन और एक मुदा है जिसपे हमें ध्यान देना पड़ेगा की, भले ही COVID-19 टीके आपको गंभीर बीमारी और मृत्यु से बचाने में अत्यधिक प्रभावी हैं, फिर भी कुछ लोग टीकाकरण के बाद भी COVID-19 से बीमार होंगेआप उन लोगों को भी वायरस दे सकते हैं जिन्हें टीका नहीं लगाया गया है. यह आपके लिए पूरी तरह से टीकाकरण के बाद भी सुरक्षात्मक उपायों का अभ्यास करना जारी रखना बहुत महत्वपूर्ण बनाता है. तो इसीलिए आपकी बारी आते ही टीका लगवाना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है और टीकाकरण के बाद सुरक्षात्मक उपायों का अभ्यास करना जारी रखें.

ओमिक्रोन वैरिएंट से डेल्टा का ये लक्षण अलग है.

Omicron के सबसे पहले लक्षणों में एक Scratcy Throat लक्षण है जिसमे आपका गला अंदर से छिल जाता है. जबकि डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित होने पर लोगों को गले में खराश मतलब की Soar Throat की समस्या होती थी. वेसे Omicron, डेल्टा वैरिएंट की तुलना में कम खतरनाक है. यूनाइटेड किंगडम की पहली आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार, Omicron से संक्रमित होने के बाद डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले 50 से 70 फीसदी कम लोग हॉस्पिटल में एडमिट हुए है.

डॉक्टर्स द्वारा उन सभी ब्रिटिश नागरिकों को आग्रह किया गया है की जिन्होंने अभी तक बूस्टर डोज नहीं ली है, वे जल्‍द से जल्‍द इसे ले लें क्‍योंकि Omicron से बचाव का ये सबसे अच्छा माध्यम है. कुछ लक्षण जेसे की नाक बंद होने, सूखी खांसी और पीठ में नीचे की तरफ दर्द होने की समस्या का सामना Omicron से पीड़ित लोगों को करना पड़ रहा है.

सीडीसी अनुशंसा करता है कि 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के सभी लोगों को अपने प्रारंभिक J&J/Janssen वैक्सीन के कम से कम दो महीने बाद या फाइजर-बायोएनटेक या मॉडर्न की प्राथमिक COVID-19 टीकाकरण श्रृंखला को पूरा करने के छह महीने बाद बूस्टर शॉट मिलना चाहिए

भारत में बूस्टर वैक्सीन किसे मिलेगा?

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को घोषणा की के भारत 10 जनवरी से स्वास्थ्य और अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं और 60 से ऊपर के लोगों को बूस्टर शॉट देना शुरू करेगा. उन्होंने यह भी कहा कि 3.2 दिन पहले जनवरी से 15 से 18 साल के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू हो जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.